कैंसर के इलाज में अब न तो होगा रेडिएशन का खतरा और न ही होगा दर्द!


यह शोध ‘द जर्नल ऑफ क्लिनिकल ओंकोलॉजी’ में प्रकाशित किया गया है। डोबिन का अनुमान है कि इस तरीके से कैंसरग्रस्त 95 प्रतिशत कोशिकाएं दो घंटे के अंदर नष्ट हो जाती हैं। प्रोफेसर मैथ्यू डोविन का कहना हैः

“हाँलांकि कई तरह के कैंसर होते हैं, लेकिन उन सबमें एक चीज समान है, कि इस इलाज से सभी तरह की कैंसर की कोशिकाएं आत्महत्या के लिए प्रेरित होती हैं। मैने इस तरीके को तीन गुणा नकारात्मक स्तन कैंसर पर आजमाया है, जो सबसे आक्रामक कैंसर में से एक माना जाता है और जिसका इलाज सबसे मुश्किल है।”

 

New Cancer Treatment

 

अब खरीदें पतंजलि के सारे प्रोडक्ट्स आसानी से


 

शोधकर्ताओं ने इस New Cancer Treatment का पहला प्रयोग कुछ चूहों के ट्रीटमेंट पर किया था, जहां आश्चर्यजनक परिणाम मिले। इस प्रयोग के बाद पाया गया कि इस तरीके से ट्यूमर को बढ़ने से रोका जा सकता है और उसके ज़िंदा रहने की संभावना भी दोगुनी हो जाती है।

डोबिन को उम्मीद है कि कई किस्म के कैंसर में यह New Cancer Treatment कारगर होगा, जिसमें ऐसी जगह पर ट्यूमर होता है, जिसका इलाज करना शल्यचिकित्सकों के लिए काफी मुश्किल होता है, जैसे दिमाग की कोशिकाएं, महाधमनी या रीढ़ की हड्डी आदि।

 

New Cancer Treatment

 

इस विधि की सबसे ख़ास बात यह है कि इस तरीके से इलाज करने में न तो रेडिएशन का खतरा है और न ही दर्द होता है, जो कि बच्चों के इलाज़ में काफ़ी कारगर साबित होगा।

 

केवल एक हज़ार रूपए से शुरू हैं यह मोबाइल फोन्स

PrevPage 2 of 2Next post

loading...
loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *