दोस्तों के साथ हों या बीवी के – ऊटी में यह 5 जगह अवश्य देखिएगा!

 

ऊटी का एक नाम “उधागामंडलम” भी है, और इसे पहाड़ों की रानी भी कहा जाता है. निलगिरी पहाड़ियों का गढ़ ऊटी, 2240 मीटर की उंचाई पर बसा है. निलगिरी का मतलब होता है नीला पहाड़. खूबसूरत नजारों से भरा पड़ा ऊटी पुराने समय में अंग्रेजों के लिए गर्मियों से बचने का एकमात्र उपाय हुआ करता था. यहाँ सैलानियों के लायक वनस्पति उद्यान, झीलें, बोट हाउस, जल प्रपात, शूटिंग स्थल, अभ्यारण्य, चाय बगान और भी बहुत कुछ हैं.

 

यह भी पढ़िए: उदयपुर की 6 ऐसी जगह जो आपको देखने से नहीं चूकना चाहिए

 

अगर आपके घर में पालतू कुत्ते हैं तो खरीदें अंतरराष्ट्रीय क्वालिटी के Dog Toys, Dog Treats, Dog Socks नीचे Amazon के एड पर क्लिक करके

 

 

नीचे देखें Ooty Tourist Places की लिस्ट

 

बोटैनिकल गार्डन

 

बोटैनिकल गार्डन यहाँ का प्रसिद्ध और दर्शनीय टूरिस्ट स्थल है. समुद्र तल से 2400 मीटर की ऊँचाई पर और 22 हेक्टेयर में फैला यह बोटैनिकल गार्डन, वर्ष 1847 में ट्वीडेल के मार्की द्वारा स्थापित किया गया था. फूलों की सुन्दर क्यारियाँ और वनस्पतियों की दुर्लभ प्रजातियाँ, यहाँ पर उपलब्ध हैं.

हरे भरे खूबसूरत लॉन, दो करोड़ साल पुराने वृक्ष का जीवाश्म, ‘मंकी-पजल’ पेड़ (जिस पर बंदर चढ़ नहीं पाते), इटालियन पद्धति पर बने उद्यान, नाना प्रकार के पेड़ पौधों का संग्रहालय है यह. इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं कि वनस्पति विज्ञान में रूचि रखने वाले विद्यार्थियों के लिए यह जगह जन्नत है.

 

Ooty Tourist Places

 

इस उद्यान की देखरेख तमिलनाडु सरकार के हॉर्टिकल्चर विभाग के अधीन है. इस उद्यान के पश्चिमी पहाड़ियों पर नीलगिरी के ‘तोडा’ आदिवासी वास करते हैं. अगर आप मानव सभ्यता में रूचि रखते हैं, तो आपको यहाँ जरुर आना चाहिए.

हर साल यहाँ “समर फेस्टिवल” का आयोजन किया जाता है, जहाँ आपको हज़ारो पेड़ पौधों की प्रजाति को निहारने का मौका मिलता है. मई महीने के तीसरे सप्ताह में इसका आयोजन किया जाता है. यहाँ का फ्लावर शो काफी प्रसिद्ध है.

घूमने का समय : सुबह 7 बजे से शाम 7 बजे तक

 

यह भी पढ़िए: दुनिया के 13 सबसे रंगीन शहर

 

अगर आपके घर में पालतू कुत्ते हैं तो खरीदें अंतरराष्ट्रीय क्वालिटी के Dog Toys, Dog Treats, Dog Socks नीचे Amazon के एड पर क्लिक करके

 

 

ऊटी लेक और बोट हाउस

 

प्रसिद्ध ऊटी झील अंग्रेजी के ‘L’ अक्षर के आकार में फैला है, लगभग 2.75 किमी की लम्बाई और 100-140 मीटर की चौड़ाई है इसकी. यह झील ऊटी को बसाने वाले जॉन सुलिवान के द्वारा पहाड़ों से आने वाले झरने के बहाव को काट कर, वर्ष 1823 से 1825 के बीच में बनाया गया था.

 

Ooty Tourist Places

 

इस झील में तीन बार दरार पड़ी, जिसके कारण यह झील पूरी तरह से सूख गयी थी और इसी कारण यह झील सिकुड़ कर वर्तमान आकार में आ गयी, जिसके दोनों तरफ जाने के लिए फेरी का इस्तेमाल होता है. वर्तमान समय का रेसकोर्स, बस अड्डा और मिनी गार्डन एक समय के झील वाले इलाके में है.

झील के दूसरे छोर पर बोट हाउस है, जहाँ सुबह 8 बजे से लेकर शाम 6 बजे तक सैर के लिए नाव किराए पर मिलती है. खूबसूरत यूक्लिप्टस के पेड़ यहाँ की खूबसूरती में चार चाँद लगाते हैं और कंक्रीट के जंगल में रहने वाले लोगों के लिए काफी सुखद एहसास देते हैं. गर्मियों में यहाँ नावों की रेस होती है, जो भारी मात्रा में सैलानियों को आकर्षित करती है. इधर कुछ सालों में यहाँ के बोट हाउस ने सैलानियों को काफी आकर्षित किया है.

समय: सुबह 9 बजे से शाम 6 बजे तक, हर दिन

 

यह भी पढ़िए: पहाड़ी छुट्टियों के लिए आदर्श: धर्मशाला

 

Ooty Tourist Places की लिस्ट अगले पेज पर भी जारी है

2 thoughts on “दोस्तों के साथ हों या बीवी के – ऊटी में यह 5 जगह अवश्य देखिएगा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *