पत्रकार महोदय अपनी निजी राय ना परोसें, खबर परोसें।

पत्रकारिता- जिसे लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है और मेरी राय भी इससे अलग नहीं है। हम लोग देखते हैं कि चाहे चुनाव की खबर हो या खेलकूद, ज्ञान-विज्ञान की बात हो या फिर चोरी-डकैती या फिर युद्ध के दौरान सीमा पर कवरेज हो, पत्रकार हमेशा इन तमाम खबरों को हमारे समक्ष रखते हैं।…

Read more

जानिए भारत के राष्ट्रीय मुख्यमंत्री के बारे में!

शीर्षक पढ़कर आप सोच रहे होंगे कि ये क्या मज़ाक है ? भला कोई राष्ट्रीय मुख्यमंत्री भी हो सकता है क्या ? क्या बेहूदा लेख है ? इसके पहले आप कुछ और सोचें, हम बताते हैं आपको देश के राष्ट्रीय मुख्यमंत्री जी के बारे में। भारत में अलग अलग पार्टीयों से, अलग अलग विचारधाराओं के…

Read more

विज्ञापन: नेता बनने का नया फार्मूला!

आऐ दिन हम नये लोगों को अपनी राजनीति सोशल मीडिया, फ्लेक्स या होर्डिंगस के माध्यम से संजोते देख सकते हैं। तकलीफ सियासत संजोने के इन माध्यमों से नहीं हैं, तकलीफ तो तब होती है जब कुछ लोग फेसबुक या ट्विटर पर किसी बड़े नेता या मंत्री के साथ उनकी किसी फोटो को सार्वजनिक पोस्ट करते…

Read more

सोनिया गांधी ने बिपाशा बासु के नए शो ”डर सबको लगता है” को बताया बकवास, निर्माताओं को भेजी नोटिस।

सोनिया गांधी ने &TV पर शुरू हुई नयी हॉरर सीरीज "डर सबको लगता है" को लेकर कड़ी आपत्ति दर्ज करायी है | शो के टाइटल को सरासर गलत बताते हुए कहा की टीवी चैनल का ये दावा गलत है की डर सबको लगता है | उन्होंने बड़ा ही तीखा रुख अपनाते हुए कहा - "मैं…

Read more

राष्ट्रीय पर्व या देशभक्ति उजागर दिवस? आइये करें देशभक्त बनने का क्रैश कोर्स!

गणतंत्र दिवस फिर आया और गया, युवाओं में देशभक्त बनने का फिर से जूनून सवार होगा। जैसे जैसे 15 अगस्त या 26 जनवरी नज़दीक आते हैं, युवा अपनी DP बदलते नज़र आने लगते हैं। कल तक 4 बोतल वोदका, काम मेरा रोज़ का सुनने वाला सबसे आगे होंगे हिन्दुस्तानी सुनने लगता है। तिरंगा गुटखा खाने…

Read more