इस ‘भारतीय’ ने किया था ATM मशीन का आविष्कार, 1967 में पहली बार निकाले गए थे पैसे

नोटबंदी के इस दौर में बैंकों के साथ-साथ देशभर के एटीएम की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। एटीएम के बाहर लोगों की लंबी-लंबी कतारें देखने को मिल रही हैं। लोग अपना पैसा निकालने के लिए एटीएम का अधिक से अधिक प्रयोग कर रहे हैं। आज जब हमें ATM का इतना महत्त्व दिख रहा है तो ऐसे में John Shepherd Barron का शुक्रिया अदा करना बनता है.

 

John Shepherd Barron

 

केवल एक हज़ार रूपए से शुरू हैं यह मोबाइल फोन्स

 

किन्तु सोचिए अगर ऑटोमेटेड टेलर मशीन यानी कि एटीएम नहीं होता, तो हमें पैसे निकालने के लिए बैंकों के सामने सामान्य दिनों में भी लंबी कतारे लगानी पड़ती, बैंक के खुलने की प्रतीक्षा करनी पड़ती। जिस दिन बैंक बंद होते, उस दिन किसी आपदा स्थिति में पैसों की आवश्यकता पड़ने पर हम यहां से वहां दौड़ते रहते। लेकिन एटीएम का आविष्कार कर, एक व्यक्ति ने हमारे जीवन को बेहद आसान बना दिया, जिससे चौबीसों घंटे कभी भी हमें पैसे निकालने की सुविधा मिली। उस व्यक्ति का एक यह आविष्कार आज के दौर में हमारे जीवन का बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है।

 

John Shepherd Barron हैं ATM का आविष्कार करने वाले

 

एटीएम मशीन को बनाने वाले शख्स के तार भारत से जुड़े है, जिनका नाम है John Shepherd Barron. एटीएम मशीन बनाने वाले स्कॉटलैंड के John Shepherd Barron का जन्म 23 जून, 1925 को भारत में मेघालय के शिलॉन्ग में हुआ था।

 

500 रुपये से भी कम में पाएं ब्रांडेड टी-शर्ट्स

 

स्कॉटलैंड से ताल्लुक रखने वाले John Shepherd Barron के पिता उस समय उत्तरी बंगाल में चटगांव पोर्ट कमिश्नर्स के चीफ इंजीनियर थे।

 

John Shepherd Barron

 

John Shepherd Barron के दिमाग में एटीएम को बनाने के विचार के पीछे की कहानी बेहद दिलचस्प है।

 

अब खरीदें पतंजलि के सारे प्रोडक्ट्स आसानी से

 

अगले पेज पर पढ़ें आखिर क्या हुआ कि John Shepherd Barron ने कर डाला ATM का आविष्कार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *